Relationships

ये 3 आदतों वाली महिलाएं बनती हैं बुरी माँ, बच्चों की खातिर इन्हें तुरंत छोड़ देनी चाहिए ये आदतें

कहते हैं एक बच्चे को सबसे ज्यादा प्यार माँ ही करती हैं. माँ और संतान के बीच का रिश्ता बड़ा मजबूत होता हैं. बेटा और बेटी चाहे कितने भी बड़े हो जाए वो अपनी माँ के लिए बच्चे ही रहते हैं. कहते हैं एक माँ अपने बच्चों की पहली गुरु होती हैं. बच्चे उससे बहुत कुछ सीखते हैं. ये बच्चे एक क्ले (मिटटी) की तरह होते हैं. इसे माँ बचपन से जिस शेप में ढालेगी वो वैसा ही बन जाएंगे. ऐसे में ये माँ का फर्ज होता हैं कि वो बच्चो के बेहतर भविष्य के लिए अच्छी माँ बने. हालाँकि कुछ महिलाओं में ऐसी आदतें भी होती हैं जो उन्हें एक बुरी माँ बना देता हैं. आज हम आपको उन्ही के बारे में बताने जा रहे हैं.

Loading...

1. मतलबी: एक आदर्श माँ वही होती हैं जो बच्चों की ख़ुशी और आराम के बदले खुद को गम और मुसीबत में रख लेती हैं. हालाँकि कुछ महिलाएं ऐसी भी होती हैं जो अपनी आदतें या दिनचर्या बच्चों के लिए नहीं बदल पाती हैं. ऐसे में इन महिलाओं की प्राथमिकता बच्चन ना होकर ये खुद होती हैं. ये महिलाएं हमेशा अपने बारे में ज्यादा सोचती हैं. अब उनके ऐसा करने की कई वजहें हो सकती हैं. मसलन या तो वो बहुत आलसी हैं, या उन्हें बच्चे पालने की झंझट पसंद नहीं हैं या वो बच्चों की परवरिश के लिए घर के दुसरे सदस्यों पर निर्भर हैं या फिर वो अपनी शादी से खुश नहीं हैं और तलाक देकर कहीं ओर बिना बच्चों के जाना चाहती हैं.

पढ़े :  महिलाओं को अपने पार्टनर से ये 4 सवाल पूछने में आती है शर्म, जानिए कौन से हैं वो सवाल?

2. लाड़ में बच्चों को बिगाड़ने वाली: एक माँ को कभी अपने बच्चो की गलती नज़र नही आती हैं. वो उसे इतना लाड़ प्यार करती हैं कि उसकी आँखों के आगे अँधेरा सा छा जाता हैं. आपको ये गलती नहीं करनी हैं. यदि आप बच्चे की हर जिद पूरी करती हैं और उसकी गलतियों को भी नज़रंदाज़ कर देती हैं तो आप एक बुरी माँ हैं. बच्चा जब बड़ा होगा तो वो गलत रास्ते पर चला जाएगा. वो हमेशा खुद को सही समझेगा. उसे जिंदगी की सही परख नहीं होगी. इसलिए अपने बच्चों से लाड़ प्यार तभी तक करे जब वो सही हो. उसकी गलतियों पर उसे टोके. उसकी डिमांड और जिद्दीपन पर कंट्रोल रखे. उसे जीने का सही और आदर्श भरा तरिका दिखाए. तभी आप एक अच्छी माँ बन पाएंगी.

3. बच्चों में भेदभाव करने वाली: एक माँ के लिए उसके सभी बच्चे सामान होना चाहिए. फिर वो लड़का हो या लड़की उसे इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ना चाहिए. जो माँ अपने बच्चों में भेदभाव कर किसी को ज्यादा और किसी को कम प्यार करती हैं तो वो एक बुरी माँ होती हैं. एक माँ होने के नाते ये आपका फर्ज हैं कि आप सभी संतानों को बराबर मात्रा में प्यार और दुलार दे. साथ ही यदि किसी तरह की पाबंदियां हैं तो सभी बच्चों पर वो सामान रूप से लागू होना चाहिए. बच्चों को घर की जिम्मेदारियां और कामकाज भी बराबर बांटने चाहिए.

पढ़े :  नई दुल्हन को शादी के एक साल तक नहीं करने चाहिए ये काम, वरना उठाने पड़ते हैं गंभीर परिणाम

वैसे आपको क्या लगता हैं एक माँ के अंदर और कौन सी बुरी आदतें हो सकती हैं? अपने जवाब कमेंट में जरूर बताए.

Loading...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top